हमारी नन्ही परी

हमारी नन्ही परी
पंखुरी

Sunday, April 8, 2012

पंखुरी - एक नयी शुरुआत ....!

........तो आज खुलने जा रही है पंखुरी बेटी की नयी नवेली दुनिया की नयी नवेली लेकिन खूब प्यारी-प्यारी बातों की पोटली....
ये तो आपको हमने बताया ही था कि अट्ठाईस मार्च से बेटी का स्कूल शुरू होने वाला था...इस दिन था स्कूल का पहला दिन...हम सभी बहुत  दिनों पहले से ही बहुत excited थे ....एक दिन पहले हमने दिन भर खूब तैयारी की और सत्ताईस मार्च की रात बेटी को साढ़े दस बजे तक सुला दिया गया ताकि अगली सुबह पांच बजे उठने में कोई परेशानी न हो... (आमतौर पर बेटी रात बारह बजे के बाद ही सोती हैं )... और उस रात सोते समय हम सबके मन में थी एक ही बात कि कल से बेटी घर की सुरक्षित दीवार से बाहर अपनी एक दुनिया बनाने के बड़े काम में लगने वाली है. अब तक वो हमारी ऊंगली थाम कर अपने को महफूज़ समझती थी लेकिन अब उसे नए लोगों से मिल कर उन पर विश्वास करना सीखना होगा ...जो बेहद ज़रूरी  भी है...

   
इन नन्ही हथेलियों को अब नए हाथ थामना सीखना होगा.... 
और फिर देखिये कैसी रही हम सबकी अगली यानी अट्ठाईस मार्च की सुबह...बिटिया के साथ सारा घर जो जाग गया था....
अट्ठाईस मार्च कीसुबह बिटिया ने पहली बार साढ़े  पांच बजे उठ कर ब्रश किया ,वो भी फटाफट....
 बिना नखरा किये मम्मी से बाल बंधवाये ...वो भी फटाफट ....
फटाफट शूज़ पहने नए वाले.......
और ये बिटिया पूरी तरह तैयार ...
चाचू सोये-सोये भले ही लग रहे हैं मगर ज़रा बिटिया की फ्रेशनेस तो देखिये...माशा अल्लाह
मम्मी-पापा और बेटी....
ये हुयी बाइक स्टार्ट....
...और पंखुरी बेटी पहली-पहली बार अपने स्कूल के लिए रवाना......
लेकिन...ओये ज़रा रुक के......
पहले बाबा का आशीर्वाद तो ले ले....और दे दे ढेर सारा प्यार भी....
और फिर बीस मिनट में बिटिया पहुँच गयी ...अपने स्कूल ''सनबीम स्कूल अन्नपूर्णा '' THE BEST JUNIOR SCHOOL OF THE TOWN ''
अब ये दो बहुत ख़ास फ़ोटोज़ ....ये वाली जब बेटी स्कूल के अन्दर पहुंची और उनके चेहरे पर पहली बार हल्का सा सहमापन दिखाई दिया. देखिये न बेटी ने पापा की ऊंगली कैसे कस के पकड़ी है....
और ये वाली तब.... जब बेटी पूरे दो घंटे बाद अपनी क्लास से लौट कर पापा के पास आई...पापा उस दिन पूरे दो घंटे वही बाहर बैठे थे... लौटने  के बाद बेटी के चेहरे पर सुनहरी धूप सी बिखरी इसी हंसी ने हमारे मन से सारा डर निकल कर रख दिया...

6 comments:

  1. अरे वाह!! पंखुरी तो अपने नए घर (स्कूल) में बिल्कुल नहीं डरी.....keep it up...अपनी इस मुस्कराहट को यूँ ही बनाये रखना....:)

    ReplyDelete
  2. कल 01/06/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. अंतर्राष्ट्रीय बालदिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  4. मजा आ गया हमें भी

    ReplyDelete